भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बंदरिया और स्कूटर / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:08, 22 मई 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बालकृष्ण गर्ग |अनुवादक= |संग्रह=आ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्कूटर पर बंदर के पीछे
बंदरिया थी बैठी
पहली-पहली बार चढ़ी थी
खूब शान से ऐठी।
गड्ढे आए लगातार तो
लगा उछलने सकूटर,
घबराकर बोली-‘रोका जी,
मुझको लगता है डर’।

[बालक, मार्च 1974]