भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"बजा कि पाबन्द-ए-कूचा-ए-नाज़ हम हुए थे / अब्दुल अहद 'साज़'" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्दुल अहद 'साज़' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

16:31, 24 मार्च 2020 के समय का अवतरण

बजा कि पाबन्द-ए-कूचा-ए-नाज़ हम हुए थे
यहीं से पर ले के महव-ए-परवाज़ हम हुए थे

सुख़न का आग़ाज़ पहले बोसे की ताज़गी था
अज़ल-रुबा साअतों के हमराज़ हम हुए थे

जहाँ से मादूम थी ख़ुश-आइन्दगी सफ़र की
वहीं से इक लम्हा-ए-तग-ओ-ताज़ हम हुए थे

यहाँ जो इक गूँज दाएरे से बना रही है
इसी ख़मोशी में संग-ए-आवाज़ हम हुए थे

रवाँ-दवाँ इंकिशाफ़-दर-इंकिशाफ़ थे हम
जो मुड़ के देखा तो सेग़ा-ए-राज़ हम हुए थे

उफ़ुक़ था रौशन न मुर्तइश पानियों पे किरनें
ग़लत ज़ंजीरों पे लंगर-अन्दाज़ हम हुए थे

कुरेदते फिर रहे हैं अब रेत साहिलों की
वही जो ग़ोता-ज़न-ए-यम-ए-राज़ हम हुए थे

जुमूद का एक दौर गुज़रा था फ़िक्र-ओ-फ़न पर
तवील अर्से के ब'अद फिर 'साज़' हम हुए थे