भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बड़ी हैं उलझनें उससे बड़ी ये जिंदगानी है / आशीष जोग

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:34, 5 अप्रैल 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=आशीष जोग |संग्रह= }} {{KKCatGhazal}} <poem> बड़ी है...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बड़ी हैं उलझनें उससे बड़ी ये जिंदगानी है,
तुम्हारी या हमारी हो, बड़ी लम्बी कहानी है |

सुनाएँ हाल-ए-दिल क्या और भला घुटते हैं तनहा क्यूँ,
वही बेकार किस्से हैं वही आँखों में पानी है |

हैं आज आकर के बैठे पास पूछें हाल वो मेरा,
बड़ी खुश-किस्मती अपनी और उनकी मेहेरबानी है |

जो होना है वही हो तो करे कोई मशक्क़त क्यूँ,
जो चाहे कर दिखा दे नाम उसका ही जवानी है |

यहीं पर हम मिले थे और वहाँ बैठे थे पहली बार,
चलो इक और जगह जो हमें तुमको दिखानी है |

गुलों से वास्ता अपना है लेकिन ग़ुलफ़रोशी का,
बहार आनी है तो आये ये आनी और जानी है |

इसे देखो लगाए फिर रहे सीने से हम अब तक,
मिला है जो हमें ये ग़म उन्हीं की तो निशानी है |

है इन्सां क्या ना वो जानें समझते खुद को हैं वाइज़,
किताबें रट चुकें और याद उनको सब जुबानी हैं |