भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"बम भोला चले कैलास बुंदियाँ परं लगी / कन्नौजी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार= }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=कन्नौजी }} <poem> </poem>)
 
 
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
}}
 
}}
 
<poem>
 
<poem>
 +
बम भोला चले कैलास बुंदियाँ परन लगीं
 +
शिवशंकर चले कैलास बुंदियाँ परन लगीं
  
 +
गौरा ने बोइ दई हरी हरी मेंहदी
 +
बम भोला ने बोइ दई भाँग
 +
बुंदियाँ परन लगीं
 +
 +
गौरा ने पीसि लई हरी हरी मेंहदी
 +
शिवशंकर ने घोटि लई भाँग
 +
बुंदियाँ परन लगीं
 +
 +
गौरा की रचि गई हरी हरी मेंहदी
 +
बम भोला कों चढ़ि गई भाँग
 +
बुंदियाँ परन लगीं
 
</poem>
 
</poem>

16:01, 25 अप्रैल 2011 के समय का अवतरण

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बम भोला चले कैलास बुंदियाँ परन लगीं
शिवशंकर चले कैलास बुंदियाँ परन लगीं

गौरा ने बोइ दई हरी हरी मेंहदी
बम भोला ने बोइ दई भाँग
बुंदियाँ परन लगीं

गौरा ने पीसि लई हरी हरी मेंहदी
शिवशंकर ने घोटि लई भाँग
बुंदियाँ परन लगीं

गौरा की रचि गई हरी हरी मेंहदी
बम भोला कों चढ़ि गई भाँग
बुंदियाँ परन लगीं