भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"बरसों के बाद जब वह मिले, दिल धड़क उठे / दरवेश भारती" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दरवेश भारती |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

14:56, 4 दिसम्बर 2019 के समय का अवतरण

बरसों के बाद जब वह मिले, दिल धड़क उठे
लब तो खमोश थे, मगर आँसू छलक उठे

बादे-सबा ने सहने-चमन पर किया करम
शबनम का तोहफ़ा पाते ही गुंचे चटक उठे

इक-दूसरे को कह दिया किसने न जाने क्या
रह-रहके दोनों सिम्त से मोती टपक उठे

रानाई आफताब-सी जब-जब हुई नसीब
गौहर यहाँ थे जो भी वह पल में दमक उठे

हो जाये उसका रह्मो-करम जब भी दोस्तो
एक, एक उदास फ़ूल खुशी से महक उठे

साजन को भी निहारना हो जाये है कठिन
नीचे गिरे कभी, कभी ऊपर पलक उठे

मिस्मार-से रहे जो बुझी आग की तरह
 'दरवेश' वक़्त आया तो वह भी धधक उठे