भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बसंत महराज / सीताराम साहू

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:22, 15 अगस्त 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सीताराम साहू |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऋतु राज बसंत के
पहुना कस अगुवानी बर

माघ के महीना
धरे लोट। भर पानी, खड़े हे
मोर बसंत आवत होही।

डोंगरी के परसा
अगनित पेडवा

बगिया के फूलवा
मोर बसंत आवत होही।

शृंगार हे अमुवा
मौरे हे डारी

गावत हे भंवरा
उड़ उड़ फुलवारी

पिंकयाय लागे महुआ
तेंदू अउ चार
आगे ऋतु राज, आगे ऋतु राज