भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाज़ार / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:22, 6 दिसम्बर 2015 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आह क्या जगह है
जहाँ ईश्वर
पके फल की तरह
ज़मीन पर गिरा
और बिखर गया !

चलो चलते हैं
रेशम के कपड़े की तरह
अपनी त्वचा लपेटते हुए
हमारे दुखों से घिरे हुए बाज़ार से बाहर ।