भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाबा हो धन लोभित धनवे लोभाइ गेल / मगही

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:05, 28 जुलाई 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=मगही |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{KKCatMagahiR...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बाबा हो धन लोभित[1] धनवे[2] लोभाइ[3] गेल।
सातो नदिया पार कयलऽ[4]
केहि[5] अइहें[6] केहिं जइहें, सनेस[7] पहुँचइहें।
कउन भइया बाट बहुरयतन, अम्मा से भेंट होयतन[8] हे॥1॥
नउआ[9] अयतन, बरिया[10] जयतन, सनेस पहुँचयतन हे।
कवन भइया बाट बहुरयतन, अम्मा से मिलन होयतन हे॥2॥

शब्दार्थ
  1. लोभी
  2. धन पर
  3. लुब्ध हो गये
  4. कर दिया
  5. कौन
  6. आयेंगे
  7. संदेश, उपहार के रूप में संबंधी के यहाँ मिठाई, फल, कपड़े, सिंदूर, चूड़ी आदि भेजी जाने वाली चीजें
  8. होगी
  9. नाई
  10. बारी, एक जाति विशेष