Last modified on 15 जुलाई 2015, at 13:56

बाबू के मउरिया में लगले अनार कलिया / मगही

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बाबू के मउरिया[1] में लगले अनार कलिया[2]
अनार कलिया हे, गुलाब झरिया[3]
बाबू धीरे से चलिहऽ ससुर गलिया॥1॥
बाबू सरहज से बोलिहऽ अमीर[4] बोलिया।
बाबू धीरे से चलिहऽ ससुर गलिया॥2॥
बाबू के दोरवा[5] में लगले अनार कलिया।
अनार कलिया हे, गुलाब झरिया।
बाबू धीरे से चलिहऽ ससुर गलिया॥3॥
बाबू के अँगुठी में लगले अनार कलिया।
अनार कलिया हे, गुलाब झरिया।
बाबू धीरे से चलिहऽ ससुर गलिया।4॥

शब्दार्थ
  1. माथे का मौर
  2. अनार की कली
  3. गुलाब की झड़ी, पँखुड़ियां
  4. अमीर, शिष्ट व्यक्ति
  5. दुलहे को पहनाया जाने वाला वस्त्र, जिसका निचला भाग घाँघरदार, घेरादार होता है तथा कमर के ऊपर इसकी काट बगलबंदी के ढंग की होती है