भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाल कविताएँ / भाग 7 / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

Kavita Kosh से
Rdkamboj (चर्चा) द्वारा परिवर्तित 22:27, 29 जून 2007 का अवतरण (New page: मेरे मामा / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’ <br> {{KKGlobal}}<br> [[रामेश्वर काम्बोज ‘ह...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे मामा / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’




रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’


बाल -कविताएँ


रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’


~*~*~*~*~*~*~*~~*~*~*~*~*~*~*~



मेरे मामा

          बिल्कुल गामा ।
 पहने कुर्ता
    और पजामा ॥

बड़े सवेरे

हैं जग जाते ।

पाँच मील तक

बीसों केले

और चपाती ।

एक बार में

चट कर जाते ॥
मेरे मामा

अच्छे मामा ॥


…………………………………………


आ भाई सूरज / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’ 




रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’


बाल- कविताएँ


रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’


~*~*~*~*~*~*~*~~*~*~*~*~*~*~*~



आ भाई सूरज-

उतर धरा पर

ले आ गाड़ी

भरकर धूप ।

आ भाई सूरज-

बैठ बगल में

तापें हाथ

दमके रूप ।

आ भाई सूरज-

कोहरा अकड़े

तन को जकड़े

थके अलाव ।

आ भाई सूरज

चुपके-चुपके

छोड़ लिहाफ़

अपने गाँव ।

…………………………………………… ………………………………………………………………॥.…।॥…………

धूप की चादर / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’ 




रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’


बाल-कविताएँ


रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’


~*~*~*~*~*~*~*~~*~*~*~*~*~*~*~



घना कुहासा छा जाता है ,

ढकते धरती अम्बर ।

ठण्डी-ठण्डी चलें हवाएँ ,

सैनिक -जैसी तनकर ।

भालू जी के बहुत मज़े हैं-

ओढ़ लिया है कम्बल ।

सर्दी के दिन बीतें कैसे

ठण्डा सारा जंगल ।


खरगोश दुबक एक झाड़ में

काँप रहा था थर-थर ।

ठण्ड बहुत लगती कानों को

 मिले कहीं से मफ़लर ।

उतर गया आँगन में सूरज

बिछा धूप की चादर ।

भगा कुहासा पल भर में ही

तनिक न देखा मुड़कर ।


लोरी / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’ 




रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’


लोरी


रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’


~*~*~*~*~*~*~*~~*~*~*~*~*~*~*~



छोटी-छोटी बकरी

छोटी –छोटी गैया ।

गैया चराए मेरे

छोटे कन्हैया ।

छोटे-छोटे हाथ

छोटे-छोटे पाँव

ठुमक- ठुमक जाए

गोरी के गाँव ।

आँखों में दिखता

है आसमान ।

पतले –से होठों पे

छाई मुस्कान ।

किलक-किलक में

सारे गुणगान

तुतली-सी बोली में

छिपे भगवान ।

…………………………