भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"बिहानी घाम गोरेटो हुँदै चुलीमा पुगेर / म. वी. वि. शाह" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= म. वी. वि. शाह |अनुवादक= |संग्रह= फेर...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
|संग्रह= फेरि उसैको लागि
 
|संग्रह= फेरि उसैको लागि
 
}}
 
}}
 +
{{KKCatGeet}}
 
{{KKCatNepaliRachna}}
 
{{KKCatNepaliRachna}}
 
<poem>
 
<poem>

16:00, 12 नवम्बर 2018 के समय का अवतरण

बिहानी घाम गोरेटो हुँदै चुलीमा पुगेर
हिमाल ढाक्यो मुसुक्क हाँसी सुनौला परेर

त्यो घरको मान्छे हातमा लौरो हल्लाई ओर्लेर
फुकाई दाम्ली आउन थाल्यो पनेरो ताकेर
हिमाल ढाक्यो मुसुक्क हाँसी सुनौला परेर

दतिवन भाँची हातमुख धोई पवित्र बनेर
अँजुली पानी चढाई वरी सूर्यलाई हेरेर
हिमाल ढाक्यो मुसुक्क हाँसी सुनौला परेर

त्यो ढुङ्गामाथि थचक्क बसी सुसेली हालेर
गोरटो ढुक्यो बाख्राको पाठो काखमा च्यापेर
हिमाल ढाक्यो मुसुक्क हाँसी सुनौला परेर

गाईगोठ सोरी त्यो घर्ती कान्छी आइन् निस्केर
सिम्रिक टीको आँखामा गाजल गुराँस सिउरेर
हिमाल ढाक्यो मुसुक्क हाँसी सुनौला परेर