भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीसवीं सदी के लिए एक आईना / अदोनिस

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:09, 20 दिसम्बर 2017 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक बच्चे के चेहरे का रूप धरे कोई ताबूत,
एक क़िताब
किसी कौवे की आँतों के भीतर लिखी हुई,
एक जानवर लस्त-पस्त चलता कोई फूल लिए हुए,
एक पत्थर
किसी पागल के फेफड़ों के भीतर साँस लेता हुआ.
                    यही है ।
                    यही तो है बीसवीं सदी ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल