भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भालू / एस. मनोज

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:58, 3 मई 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखें देखें देखें भालू
उछल कूद अछि कयने चालू

करिया भालू गड़ामे पट्टा
देखहीं लागैत अछि अलबत्ता

मॉथ पर टोपी देहमे अंगा
नाचैत अछि सौंसे दरिभंगा

डमरू जखनहि बाजैत अछि
तखनहि नाच देखाबैत अछि

घूमि घूमि के नाच देखाबय
नाच देखाके पाय कमाबय