भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"भावार्थ लेखक" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('कविता कोश में विभिन्न रचनाओं के भावार्थ लिखने के ल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
छो ("भावार्थ लेखक" सुरक्षित कर दिया ([संपादन=केवल प्रबन्धकों को अनुमति दें] (अनिश्चितकालीन)))
 
(कोई अंतर नहीं)

23:21, 20 जून 2020 के समय का अवतरण

कविता कोश में विभिन्न रचनाओं के भावार्थ लिखने के लिए स्वयंसेवकों की हमेशा आवश्यकता रहती है।

यदि आप इस कार्य को करने के लिए कविता कोश से जुड़ना चाहते हैं तो कृपया निम्नलिखित बातें नोट करे:

  • इस कार्य के लिए हिन्दी साहित्य पर अच्छी पकड़ आवश्यक है। आप हिन्दी साहित्य में परास्नातक य इससे अधिक योग्यता रखते हों। यदि आपने हिन्दी साहित्य में अध्यापन कार्य किया है तो और भी उत्तम होगा।
  • आपको भावार्थ की सामग्री हिन्दी में टाइप करके भेजनी होगी। इसलिए या तो आपको कम्यूटर पर यूनिकोड (मंगल) में टाइपिंग आती हो या आपके पास कोई व्यक्ति जो जो आपके लिखे को टाइप कर सके।

भावार्थ लेखक के रूप में कैसे जुड़ें?

१) सबसे पहले यह उचित होगा कि भक्तिकाल, रीतिकाल, वीरगाथा काल इत्यादि की रचनाओं के भावार्थ लिखे जाएँ। इन काल खण्डों में जो भाषा प्रयोग की गई उसका आज चलन नहीं है। इसलिए विद्यार्थियों व सामान्य पाठको कों इन रचनाओं को समझने में मुश्किल होती है।

२) आप अपने लिए कविता कोश से उक्त काल खण्डों की किसी भी रचनाकार की कोई भी पाँच रचनाएँ चुन कर उनके भावार्थ लिखें और हमें भेजें।

३) यदि आप इन काल खण्डो की रचनाओं के भावार्थ नहीं लिख सकते हैं तो अन्य रचनाओं पर टीका / भावार्थ भी आप भेज सकते हैं। लेकिन रचना चुनते इस बात का ध्यान रखें कि वह रचना इतनी गूढ़ अवश्य होनी चाहिए कि उसे भावार्थ की आवश्यकता हो!

४) उक्त काल खण्डो की रचनाओं के अलावा आप ऐसी रचनाओं के भावार्थ भी भेज सकते हैं जो हिन्दी में नहीं हैं -- उदाहरण के लिए ब्रज भाषा, अवधी, भोजपुरी, मैथिली इत्यादि अन्य भाषाओं की रचनाओं के हिन्दी भावार्थ भी भेजे जा सकते हैं।

५) आपके द्वारा भेजी गई सामग्री के आधार पर ही हम आपको स्वयंसेवकों की टीम में शामिल कर पाएँगे। आशा है आप इस बात को समझेंगे कि हम कविता कोश के ज़रिए सर्वोत्तम सामग्री पाठकों को उपलब्ध कराना चाहते हैं। सामग्री की गुणवत्ता में भावार्थ की गुणवत्ता के अलावा वर्तनी और व्याकरण की गुणवत्ता भी देखी जाएगी। आपके द्वारा भेजी गई सामग्री ऐसी होनी चाहिए जिसे तुरंत कोश में संकलित किया जा सके। इसके लिए यह ज़रूरी है कि वर्तनी ठीक हो, विराम चिह्नों का प्रयोग सटीक हो और व्याकरण की अशुद्धि न हो।

६) भावार्थ के साथ आप संदर्भ और शब्दार्थ भी लिख सकें तो स्वागत है।

७) भावार्थ की कोई शब्द सीमा नहीं है... बस भाव स्पष्ट होना चाहिए।

८) पाँच रचनाओं के भावार्थों के साथ कृपया अपनी एक तस्वीर, अपना पूरा नाम, शैक्षिक योग्यता और सम्प्रति भी लिख कर भेजें।

यदि आपके भावार्थ कविता कोश टीम द्वारा चुने जाते हैं तो आपका नाम भावार्थ टीम में शामिल कर लिया जाएगा और उसके बाद आप आगे भावार्थ लिखने का काम आरम्भ कर सकते हैं।

भावार्थों / सन्दर्भों / शब्दार्थों को आपके नाम, तस्वीर, शैक्षिक योग्यता इत्यादि के साथ कोश में रचना में पृष्ठ पर जोड़ा जाएगा।

यह काम गंभीर है इसलिए आपके द्वारा लिखी गई सामग्री ऐसी होनी चाहिए जो विश्वसनीय हो और जिससे पाठक (विशेषकर विद्यार्थी) सही ज्ञान प्राप्त कर सकें। इसका ध्यान रखें कि आपके द्वारा की गई ग़लती विद्यार्थियों को ग़लत ज्ञान दे सकती है।