भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भोर की किरन / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:03, 26 जून 2008 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' }} काटेगा सुख यहाँ कैसे पथ क...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काटेगा सुख यहाँ कैसे

पथ को निपट अकेले।

आओ जग के दुखों से

कुछ पल संग में लेलें।

है सुख की यही सफलता

कि सब में वह बँट जाए।

किरन भोर की जागे;

तो अँधियारा छँट जाए।