भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मंज़िलों का निशान कब देगा / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
Shrddha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:18, 6 जनवरी 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम |संग्रह=सायों के साए में / शीन का…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मंज़िलों का निशान कब देगा
आह को आसमान कब देगा

अज्मतों का निशान कब देगा
मेरे हक़ में बयान कब देगा

ज़ुल्म तो बेज़ुबान है लेकिन
ज़ख़्म को तू ज़ुबान कब देगा

सुबह सिजदे समेटे सोई है
पर अँधेरा अज़ान कब देगा

इन ठिठरते हुए उजालों को
धूप सा सायबान कब देगा

मौजे माही निगल न जाए कहीं
नूह सा निगाह्बान कब देगा

मुझ को जंगल दिया है जीने को
बुज़दिलों को मचान कब देगा

बस यही पूछना है उस से 'निज़ाम'
पर दिए हैं उड़ान कब देगा