भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मन घबराता है / सुधा ओम ढींगरा

Kavita Kosh से
अनूप.भार्गव (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 06:13, 26 फ़रवरी 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुधा ओम ढींगरा }} <poem> जब भी मेरा मन घबराता ...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब भी मेरा मन
                      घबराता है
                                  मस्तिष्क --
                                                तेरी यादों में
                                                 डूब जाता है.

रात
      आँखों में
                 कटने लगती है--
                                      तेरे एहसास से
                                       चैन आता है.

उलझनों से घिरे
                    मन औ'
                          बेचैन मस्तिष्क को--
                                                   एक नया साहस
                                                    बंध जाता है.

सोचों में करीब
                  पा कर तुझे
                                 ग़म से छुटकारा पा--
                                                       वेदना को नया
                                                 मार्ग मिल जाता है.