भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"मन रख के अपना गुम्बद-ए-बेदर के आस-पास / शीन काफ़ निज़ाम" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम |संग्रह=सायों के साए में / शीन का…)
 
(कोई अंतर नहीं)

22:39, 9 जनवरी 2010 के समय का अवतरण

मन रख के अपना गुम्बदे-बेदर के आस-पास
इक साँप घूमता है गुले-तर के आस-पास

अक़ब्र की आग गैरते-अफई को खा गई
क्या ढूँढ़ते हैं लोग समुन्दर के आस-पास

आफ़ाक़ के क़रीब से देखो तो अन्कबूत
फैला रही है पाँव कलैंडर के आस-पास

चूहे के दांत से कभी तोते की चोंच से
इक दिन पहुँच ही जाएगा पत्थर के आस-पास