भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मशवरा: एक / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
Shrddha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:56, 10 सितम्बर 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम |संग्रह=सायों के साए में / शीन का...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत पुरानी
हमारे रिश्तों की सब क़बाएँ[1]
जगह-जगह से
इसीलिए सब मसक रही हैं
उतारें इन को!?
प्राने कपड़ों के गंदे गट्ठर में
बन्द कर दें
कभी कोई-
सब फ़टे-पुराने हमारे कपड़े
ख़रीद लेगा
और इन के बदले
चमकता-सा कुछ थमाए शायद...


शब्दार्थ
  1. वस्त्र (कबा का बहुवचन)