भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मस्त कर के निगाह ए होशरुबा ने मुझको /सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
Ravinder Kumar Soni (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:50, 19 फ़रवरी 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सीमाब अकबराबादी |संग्रह= }} [[Category:गज़...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मस्त कर के निगाह ए होशरुबा ने मुझको
बज़्म ए साक़ी में लगाया है ठिकाने मुझको

लुत्फ़ परवरदा ए फ़ितरत है सहरगश्त मिरा
कि नसीम ए सहर आती है जगाने मुझको

हाथ रुकने न दिया मशक़ ए जफ़ा ने उनका
चैन लेने न दिया शौक़ ए वफ़ा ने मुझको

एक छोटा सा नशेमन तो बना लेता मैं
चार तिनके न दिए मेरे ख़ुदा ने मुझको

नग़मासंजी मिरी सीमाब बहुत दिलकश है
याद हैं तूती ए सदरह के तराने मुझको