Last modified on 21 मई 2011, at 01:55

महात्मा गाँधी / कृष्ण कुमार यादव

Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:55, 21 मई 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

महात्मा गाँधी
सत्य और अहिंसा की मूर्ति
जिसके सत्याग्रह ने
साम्राज्यवाद को भी मात दी
जिसने भारत की मिट्टी से
एक तूफ़ान पैदा किया
जिसने पददलितों और उपेक्षितों
की मूकता को आवाज़ दी
जो दुनिया की नज़रों में
जीती-जागती किवदंती बना
आज उसी गाँधी को हमने
चौराहों, मूर्तियों, सेमिनारों और क़िताबों
तक समेट दिया
गोडसे ने तो सिर्फ़
उसके भौतिक शरीर को मारा
पर हम रोज़ उसकी
आत्मा को कुचलते देखते हैं
ख़ामोशी से ।