भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महिला मित्र / चार्ल्स बुकोवस्की / सरिता शर्मा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:20, 22 अप्रैल 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=चार्ल्स बुकोवस्की |अनुवादक=सरित...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे आते रहते हैं फ़ोन
अतीत से जुडी महिलाओं के
एक का कल ही आया
दूसरे राज्य से।
मिलना चाहती थी
मुझसे।
मैंने कहा दिया —
नहीं।

मैं नहीं चाहता मिलना
उनसे,
मैं नहीं मिलूँगा।
ऐसा करना
अटपटा
क्रूर और
फिजूल होगा।

मैं जानता हूँ कुछ लोगों को
जो देख लेते हैं
एक ही फिल्म को
एक बार
से ज़्यादा।

मैं नहीं।
जब मैं जान लेता हूँ
कहानी
जानता हूँ
अन्त
वह सुखद है या
दुखद या
बस सीधी-सी
बेकार,
तो

मेरे लिए
वह फ़िल्म
ख़त्म हो गई
हमेशा के लिए
और इसी वजह से
मैं मना कर देता हूँ
अपनी किसी
पुरानी फ़िल्म को
चलाने देने से
बार- बार
बरसों
तक।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : सरिता शर्मा

और अब अँग्रेज़ी में यही कविता पढ़िए
Girlfriends

The women of the past keep
phoning.
there was another yesterday
arrived from out of
state.
she wanted to see
me.
I told her
"no."

I don't want to see
them,
I won't see them.
it would be
awkward
gruesome and
useless.

I know some people who can
watch the same movie
more than
once.

not me.
once I know the
plot
once I know the
ending
whether it's happy or
unhappy or
just plain
dumb,
then

for me
that movie is
finished
forever
and that's why
I refuse
to let
any of my
old movies play
over and over again
for
years.