भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मालवी लोकगीत

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:40, 11 सितम्बर 2016 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गणेश के गीत

दादरा

राग हलूर का गीत

भेरू (भैरव) के गीत

दामाद के गीत

नणदोई के गीत

देवी के गीत

देवी जगदम्बा

ग्यारस (एकादशी) के गीत

रामदेव जी के गीत

बानो

गंगा माता के गीत

झवरियाँ (एक गहना)

सरोता

साध

मेंहदी

कुंकड़ा (प्रभाती)

ढोल्यो (पलंग)

कोल्या (कौर) गीत

बेटी की बिदाई का गीत

बीरो (भाई)

जच्चा

सूरज पूजा का गीत

सावनी झूले का गीत

बीरा

सुहाग का गीत

चीगट

बधावा

बेटी की बिदाई के समय का बधावा

चौक के बधावे

जलवाय पूजन का गीत

बधावा

साध का गीत-अजमो (अजवाइन)

जच्चा

कन्यादान के अवसर पर गाया जाने वाला गीत

ब्याण-समदेले के अवसर का गीत

गाली

समदेले के समय की गाली

उबटन

जापे का गीत

बधावा

अन्य गीत