भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"मास्को / मख़दूम मोहिउद्दीन" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
 
|रचनाकार=मख़दूम मोहिउद्दीन  
 
|रचनाकार=मख़दूम मोहिउद्दीन  
|संग्रह=गुले तर / मख़दूम मोहिउद्दीन  
+
|संग्रह=गुले-तर / मख़दूम मोहिउद्दीन  
 
}}
 
}}
 
{{KKCatNazm}}
 
{{KKCatNazm}}

08:41, 28 अप्रैल 2011 के समय का अवतरण

मास्को के हवाई अड्डे पर उतरते हुए

हिन्द की दुखियारी जनता का सलाम ले ले
पयाम ले ले
मेरे साथ मास्को
सात नवम्बर की ज्योति से हमने रस्ता पाया
हमने अपना ख़ून बहाकर तुझ से हाथ मिलाया
जगत की जनता से मिलजुल कर जीवन गीत बनाया
तेरे नाम से तेरे काम से हर सूं दीप जलाया
हिन्द की दुखियारी जनता का सलाम ले ले
पयाम ले ले
मेरे साथी मास्को