भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिटने का अधिकार / महादेवी वर्मा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:32, 6 जुलाई 2006 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लेखिका: महादेवी वर्मा

वे मुस्काते फूल नहीं
जिनको आता है मुर्झाना,
वे तारो के दीप नहीं
जिनको भाता है बुझ जाना

वे सूनो सो नयन,नहीं
जिनमें बनते आंसू मोती,
वह प्राणों की सेज,नही
जिसमें बेसुध पीडा, सोती

वे नीलम के मेघ नही
जिनको है घुल जाने की चाह
वह अनन्त रितुराज,नही
जिसनो देखी जाने की राह

ऎसा तेरा लोक, वेदना
नही,नहीं जिसमें अवसाद,
जलना जाना नहीं नहीं
जिसने जाना मिट्ने का स्वाद

क्या अमरों का लोक मिलेगा
तेरी करुणा का उपहार
रहने दो हे देव अरे
यह मेरे मिटने क अधिकार