भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"मीत पुराने / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

04:08, 11 जनवरी 2020 के समय का अवतरण

मीत पुराने
न दिया कभी धोखा
न थे शिकवे
न कोई शिकायत
फिर भी रूठे
भ्रम की थी दीवारें
हम थे सच्चे
कहलाए हैं झूठे
मन पूछता
कई टेढ़े सवाल
कहाँ था खोट
कौन -सी लगी चोट
कि दो पल में
थे बिखरे सम्बन्ध
टूटे थे अनुबन्ध।