भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुओ सियारो / मीरा हिंगोराणी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:38, 1 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मीरा हिंगोराणी |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हेल सियारो अहिड़ो आयो,
वेंदे-वेंदे झड़प उ/ई वियो।

झामन माउ खे चढ़ि/यो बुखारु,
हेमनु जुकाम खां बेज़ारु,
कढ़ी गुबारु धकु हणी वियो
हेल...

निकिता बाबा मफलरु वेड़हे,
बेठी भाभी सिगरी सोरे,
हेमन माउ खे तपु ॾई वियो...
हेल...

खाई बादाम सीरो सूजी,
सीरुअ माउ कुउ/ंदी आई,
मारियो सभु कुझु हज़मु करे वियो...
हेल...

ईंदुसि वर-वर मोटी वापसि,
इएं चई वियो-

डपु उ/ई वियो-तपु ॾई वियो...
हेल सियारो अहिड़ो आयो!