भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे मालूम नहीं / हुम्बरतो अकाबल / यादवेन्द्र

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:26, 22 सितम्बर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हुम्बरतो अकाबल |अनुवादक=यादवेन्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे गाँव ने देखा
चुपचाप मेरा
वहाँ से निकल जाना

शहर
अपने प्रपँचों में
इतना फँसा रहा
कि उसको सुध नहीं
कौन आया कौन गया...

न सिर्फ़ किसान बने रहने
मुझसे छूट गया
बल्कि मैं मज़दूर बन गया।

मुझे मालूम नहीं
इसको क्या कहना चाहिए
तरक्की...
या पिछड़ जाना।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र