भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझ को इस रात की तनहाई में आवाज़ न दो / दिल भी तेरा हम भी तेरे

Kavita Kosh से
Sandeep Sethi (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:22, 1 मार्च 2010 का अवतरण (मुझ को इस रात की तनहाई में आवाज़ न दो / दिल भी तेरा हम भी तेरे का नाम बदलकर एक,दो,तीन,आजा मौसम है रंगीन)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

पुनर्निर्देश पृष्ठ
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज