भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मृत्यु का गीत / गब्रिऐला मिस्त्राल / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:29, 7 जुलाई 2018 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जनगणना करने वाली बूढ़ी औरत
और तिकड़मी धूर्त मौत
तुमने साथ-साथ चलते हुए
कहीं मेरे बच्चे को तो नहीं देखा

दूध की गन्ध सूँघते
नवजात शिशुओं के बीच घूमना
और दूध की जगह
नमक और दलिया पाना

इस दुनिया में
ऐ, माँ विरोधी मौत
लोगों का जीवन हरने वाली
समुद्र तटों और सड़कों पर घूमनेवाली
कहीं मेरे बच्चे को तो नहीं देखा

बपतिस्मे के समय
जो नाम उसे दिया गया था
फूल जो उसके संग-संग खिल रहा था
सब भूल जाओ, बस, याद रखो
मौत उसे खा गई

अब हवा, नमक और रेत में
तुम पागल हो गई हो
तुम बौरा गई हो और नहीं बता पाती हो
कहाँ पूरब है और कहाँ पच्छिम

मैं उस बच्चे की माँ
समुद्र में मछली की तरह हूँ
हर पल, हर छिन
बस, मैं ही मिलती हूँ

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय

अब अँग्रेज़ी में यही कविता पढ़ें
       Song Of Death

Old Woman Census-taker,
Death the Trickster,
when you're going along,
don't you meet my baby.

Sniffing at newborns,
smelling for the milk,
find salt, find cornmeal,
don't find my milk.

Anti-Mother of the world,
People-Collector -
on the beaches and byways,
don't meet that child.

The name he was baptized,
that flower he grows with,
forget it, Rememberer.
Lose it, Death.

Let wind and salt and sand
drive you crazy, mix you up
so you can't tell
East from West,

or mother from child,
like fish in the sea.
And on the day, at the hour,
find only me.

Gabriela Mistral