भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"मेरी आँखों से गुज़र कर दिल ओ जाँ में आना / अब्दुल अहद 'साज़'" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्दुल अहद 'साज़' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

17:25, 24 मार्च 2020 के समय का अवतरण

मेरी आँखों से गुज़रकर दिल ओ जाँ में आना
जिस्म में ढलके मिरी रूह-ए-रवाँ में आना

खो न जाना मिरी जाँ सरहद-ए-जाँ तक आ के
क़ुर्ब का पास लिए बोद-ए-कराँ में आना

मैं तिरे हुस्न को रानाई-ए-मा'नी दे दूँ
तू किसी शब मिरे अंदाज़-ए-बयाँ में आना

साथ चलने को रफ़ीक़-ए-रह-ए-दुनिया हैं बहुत
तू मिरे साथ मिरे अपने जहाँ में आना

ला-मकाँ शेर की बंदिश में सिमटना पलभर
आसमाँ आईना-ए-आब-ए-रवाँ में आना

इश्क़ ने देख लिए हुस्न में आफ़ाक़ तमाम
एक सकते का वो उम्र-ए-गुज़राँ में आना

ज़ीनत-ए-दस्त-ए-हिनाई है यही दुज़्द-ए-हिना
ग़ैब का मा'रज़ा-ए-वक़्त-ओ-मकाँ में आना

तिश्ना-ए-नूर मिरी फ़िक्र के महताब ओ नुजूम
मिरे ख़ुर्शीद मिरी काहकशाँ में आना