भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मेरी पूर्व पत्नी / ओरहान वेली

Kavita Kosh से
Kumar mukul (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:48, 24 जुलाई 2021 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ओरहान वेली |अनुवादक=देवेश पथ सारि...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर रात तुम मेरे सपनों में आती हो
हर रात मैं तुम्हें देखता हूं साटन की सफ़ेद चादर पर
हर रात शैतान मुझे तुम्हारे पास सुला देता है

तुम्हें मालूम है क्यों?

क्योंकि हे मेरी स्त्री,
मैं अब भी तुमसे प्यार करता हूं
हालांकि तुम छोड़ चुकी हो मुझे
तुम एक बेहद विशेष औरत हो
तुम जैसी ढूंढ पाना बहुत मुश्किल है।

मूल तुर्किश से अनुवाद: रवि कोपरा
अंग्रेज़ी से अनुवाद: देवेश पथ सारिया