भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरी मटुकी फोरी री / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:37, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जसोदा तेरे लाला ने मेरी मटुकी फोरी री॥ टेक
हम दधि बेचन जात वृन्दावन मिलि ब्रज गोरी री।
गैल रोकि के ठाड़ौ पायौ, कीनी झकझोरी री॥
दही सब खाय मटुकिया फोरी बाँह मरोरी री।
लै नन्दरानी हमने तिहारी नगरी छोड़ी री॥
चोरी तो सब जगह होय तेरे ब्रज में जोरी री।
नाम बिगारौ तिहारौ याने बेशरमाई ओढ़ी री।
सारी झटक मसक दई चोली, माला तोरी री।
कहै ‘शिवराम’ चिपकारी भरिकें खेलौ होरी री॥