भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरो सानो संसार तिमीलाई अटेन / दिव्य खालिङ

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:00, 6 दिसम्बर 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दिव्य खालिङ |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मेरो सानो संसार तिमीलाई अटेन
मेरो चोखो माया तिमीलाई पुगेन
मेरो घाम र जुन तिमीलाई रुचेन

मायाको उजेलोलाई मैले रात भनिन
तिम्ले जति दिन चाह्यौ मैले कम भनिन
तिमी सत्यलाई चाहे गल्ती ठान
दुइटा मन जलाउने म आफैँलाई ठान्छु

टिठाएर दिए जस्तो माया नै चाहिन
तिम्लाई दिनुपर्ने भनी बाचा नै राखिन
तिमी अरूलाई चाहे जे सुनाऊ
मनको व्यथा म आफैँलाई सुनाउँछु