भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैंने तुम्हें देखा ढाई बरस बाद / डोरिस कारेवा / तेजी ग्रोवर

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:16, 11 नवम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=डोरिस कारेवा |अनुवादक=तेजी ग्रोव...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढाई क्षण के लिए
मैंने तुम्हें देखा
ढाई वर्ष के बाद ।

आँख की वह झपक
मेरी नज़र में जलती है,
मारक,
और पुनः
सब नए में बदलती हुई ।

बिजली की कौंध,
भूचाल,
और सैलाब एक साथ
एक ही क्षण ।

मैं
हल्लो तक नहीं कह पाई ।

तुम्हारी विचित्र उदास दीप्ति
चमकती तलवार-सी
भेदती है मुझे ।

दुनिया,
दुनिया तो पास से
गुज़र जाती है, बस ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : तेजी ग्रोवर