भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैंने तो ऐसा कोई मंज़र कभी देखा न था / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
Shrddha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:07, 8 जनवरी 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम |संग्रह=सायों के साए में / शीन का…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने तो ऐसा कोई मंज़र कभी देखा न था
दिन ढला जाता था और साया कोई लम्बा न था

फिर तो उस के सामने जैसे कोई रस्ता न था
जीतने वाला कभी यूँ हौसला हारा न था

लोग तो कहते थे लेकिन मैं भी तो अँधा न था
मैंने ख़ुद देखा है मेरे धड़ प' भी चेहरा न था

रोकना चाहा था मैंने वो भी रुक जाता मगर
एक झोंका था हवा का वो ठहर सकता न था

कितने ही कच्चे घड़े लहरों को याद आने लगे
साहिलों के होंठों पर ऐसा कभी नोहा न था

गोद में माँओं की बच्चे रात भर रोते रहे
पास पूतोंवालियों के क्या कोई क़िस्सा न था