भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"मैंने मापा ख़ुद को / अदोनिस" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKAnooditRachna |रचनाकार=अदोनिस |संग्रह= }} Category:अरबी भाषा <Poem> मैंने माप…)
 
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKGlobal}}
{{KKAnooditRachna
+
{{KKRachna
 
|रचनाकार=अदोनिस   
 
|रचनाकार=अदोनिस   
 
|संग्रह=
 
|संग्रह=
पंक्ति 14: पंक्ति 14:
 
इस तरह मैं रहने लगा अपने ख़यालों में  
 
इस तरह मैं रहने लगा अपने ख़यालों में  
 
इस तरह दोस्त बन गए मैं और फ़रेब  
 
इस तरह दोस्त बन गए मैं और फ़रेब  
</poem>
+
 
  
 
'''अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल'''
 
'''अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल'''
 +
</poem>

19:16, 20 दिसम्बर 2017 के समय का अवतरण

मैंने मापा ख़ुद को अपने ख़यालों की स्त्री से
बाहर निकला उसकी तलाश में
मगर कुछ भी न मिला जिससे मिल सके उसका कोई सुराग --
कोई पुल नहीं था
मेरी देह और मेरे ख़्वाब के बीच

इस तरह मैं रहने लगा अपने ख़यालों में
इस तरह दोस्त बन गए मैं और फ़रेब


अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल