भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैंने सोचा था सो गये हो तुम / चाँद शुक्ला हादियाबादी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:05, 7 मई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=चाँद हादियाबादी }} Category:गज़ल <poem> म...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मैंने सोचा था सो गये हो तुम
अपने ख़ाबों में खो गये हो तुम
 
जाने क्यों हर किसी की आँखों में
अपने आँसू पिरो गये हो तुम

दिल की नज़रों से तुमको देखा था
तब से दिल को भिगो गये हो तुम

ज़िंदगी की उदास रिमझिम में
मेरी पलकें भिगो गये हो तुम

मुद्द्तों से तुम्हें नहीं देखा
ईद के चांद हो गये हो तुम