Last modified on 1 अगस्त 2009, at 14:17

मैं अपने हाल से खुद बेख़बर हूँ / सीमाब अकबराबादी



मैं अपने हाल से खु़द बेख़बर हूँ।
तुम्हारी कमनिगही का गिला क्या॥

दुआ दिल से जो निकले कारगर हो।
यहाँ दिल ही नहीं दिल से दुआ क्या॥