Last modified on 1 अक्टूबर 2018, at 10:51

मैं जाग रहा होता हूँ रात रात / रवि कुमार

जबकि सभी लगे हैं
इमारतों की उधेड़बुन में
मैं एक बुत तराश रहा हूँ
जबकि कांटों की बाड़ का चलन
आम हो गया है
मैं महकते फूलों की
पौध तैयार कर रहा हूँ
जबकि सभी चाहतें हैं
आसमानों को नापना
मैं गहराईयों को टटोल रहा होता हूँ
यह अक्सर ही होता है
लोग समन्दर पी जाते हैं
मैं चुल्लू बनाए
झुका रह जाता हूँ
या कि जब लोग सोए होते हैं
हसीन ख़्वाबों में खोए
मैं जाग रहा होता हूँ रात रात
मैं कर रहा होता हूँ कविता