भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं तुम्हारे लिए ऐसा / बोधिसत्व

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:06, 25 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बोधिसत्व |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भर गिलास अदरक, लौंग, इलायची वाली चाय जैसा
बून्दी के एक लड्डू जैसा स्वाद से भरा
चुपड़ी रोटी जैसा
तारों भरी रात जैसा दमकता आभास,
बादल के टुकड़े जैसा घुमड़ता विलीन होता
नभ मण्डल में
भरे आकाश जैसा अछोर छाया हुआ
हरे पेड़ जैसा हिलता काँपता
अर्थवान कविता जैसा
गीले आटे में और पिसान्न जैसा
उन्नत माथे पर रंगीन बिन्दी जैसा
आँख के नीचे गहरे चोट के निशान जैसा
कलाई की टूटी चूड़ियों जैसा
खो गए पते जैसा
पता नहीं मैं तुम्हारे लिए कैसा-कैसा