भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं तो अकेली राजा घर न लुटाऊँगी / मगही

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:06, 20 अगस्त 2008 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मैं तो अकेली राजा घर न लुटाऊँगी,
घर न लुटाऊँगी, नेग भी चलाऊँगी।

मैं तो अकेली राजा घर न लुटाऊँगी,
सासु अइहें किया मोरा होइहें।

देवता मनाने अपनी मइया को बुराऊँगी,
मैं तो अकेली राजा घर न लुटाउँगी।

गोतनी नहीं अइहें किया मोरा होइहें,
हलुआ घाटन अपनी भाभी को बुराऊँगी।

मैं तो अकेली राजा घर न लुटाऊँगी,
ननदी न अइहें किया मोरा होइहें।

काजर पारन को बहिनी को न बुलाउँगी,
मैं तो अकेली राजा घर न लुटाऊँगी।