भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं नाहीं दधि खायौ / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:37, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मैया मैं नाहीं दधि खायौ, मोय झूठो दोष लगायौ॥ टेक॥
ये ग्वालन जुरि-मिलि के मैया, मोकू नाच नचाती हैं।
दे दे तारी हँसे और मोय बकनी बात सिखाती हैं॥
लीनौ पकरि मोय वन वन में जो कहुँ अकेलौ पायौ॥ मैया.
जो मैं आयो भाजि तो मैया ये मन में खिसियाती हैं।
तंग कराइबे मोकू ये झूठौ उरहानौ लाती हैं॥
इनके संग तनकहू मैंने ऊधम नहीं मचायौ॥ मैया.
जो तू मानें झूठ पूछ लैं मनसुख मेरौ गवाही है।
कब लूटौ मैंने दधि इनको झूठी बात बनाई है॥
हैं मदमाती ज्वानी में ये अपनों ऐब छिपायौ॥ मैया.
कैऊ दिना या चिमिचिमयाने मैया मोकूँ मारौ है।
पूछ ले याते मैया तू अरी मैंने कहा बिगारौ है।
‘घासीराम’ ने दंगल में रसिया ये कथिके गायौ॥ मैया.