भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं वो सुतारियारी बेटी, बखी थी वो बेन / मालवी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:24, 29 अप्रैल 2015 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मैं वो सुतारियारी बेटी, बखी थी वो बेन
इनी सेरिया हाटड़लो मत मांड, म्हारी ऐ बेन
छोड़ दो हटीला भेरू म्हारो फाटे वीर
फाटे म्हारो चीर, भेरूजी टूटे म्हारो हार
टूटे म्हारा बाजूबंद रा लू, म्हारी ऐ बेन
छोड़ दो काला-मतवाला, छोड़ दो कासी रा वासी