भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मोम के जिस्म में एक धागा सजा रखा है / चाँद शुक्ला हादियाबादी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:12, 7 मई 2016 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मोम के जिस्म में एक धागा सजा रखा है
ख़ुद को शम्अ की तरह मैंने जला रखा है

पूछता रहता हूँ मैं अपने ख़ुदा से अक्सर
मेरे मालिक यह बता दुनिया में कया रखा है

अपने हाथों से तराशा है सँवारा है उसे
हमने इक अपना ख़ुदा ख़ुद ही बना रखा है

मैं जिनके वास्ते दर- दर भटकता फिरता हूँ
उनको ख़ाबों में ख़यालों में बसा रखा हैं

मैं जिनकी याद में अक्सर बुझा -सा रहता हूँ
उन्हीं को रूह की साँसों में जला रखा है

कभी ये चूमती हैं लब तेरे कभी रुख़सार
तूने ज़ुल्फ़ों को बहुत सर पे चढ़ा रखा है