भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"म्हनैं ठाह है : च्यार / रमेश भोजक ‘समीर’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('<poem>म्हनैं ठाह है भाग माथै पड़्या है भाठा कैवतो थको म...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
 
(2 सदस्यों द्वारा किये गये बीच के 2 अवतरण नहीं दर्शाए गए)
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
<poem>म्हनैं ठाह है
+
{{KKGlobal}}
 +
{{KKRachna
 +
|रचनाकार=रमेश भोजक ‘समीर’
 +
|संग्रह=मंडाण / नीरज दइया
 +
}}
 +
{{KKCatRajasthaniRachna}}
 +
{{KKCatKavita‎}}
 +
<poem>
 +
म्हनैं ठाह है
 
भाग माथै
 
भाग माथै
 
पड़्या है भाठा
 
पड़्या है भाठा

20:34, 15 जनवरी 2016 के समय का अवतरण

म्हनैं ठाह है
भाग माथै
पड़्या है भाठा
कैवतो थको मिनख
चढ जाया करै है
आपरी आंगळियां रै भरोसै
भाठां री दुकान माथै।