भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यती सम्मन् भएको हाल् / लक्ष्मीदत्त शर्मा पन्त

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:47, 9 जुलाई 2018 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


यती सम्मन् भएको हाल् कि ऊ जानोस् कि मै जानू,
कि उस्तैक्कै भए जान्ला कि ऊ जानोस् कि मैं जानू ।।

यसो हेर्दा त बेसै छौं, दुवै एक् ठाउँ डुल्दैछौं,
मिलेका छौं कि फाटेका कि ऊ जानोस् कि मैं जानू ।।

मिजायस् वात औसर्मा हुँदा छौं एक नै हामी,
कहाँ सम्मन् छ भित्री पेच, क ऊ जानोस् कि मैं जानूँ ।।

सरम्‌ले बाँधियौं सार्हैे रती डेग् चल्न शक्तैनौं,
छ मन्सुव् मिल्न काँहाँ तक्, कि ऊ जानोस् कि मैं जानूँ ।।

ठूलो चोट् इस्कको पर्दा कलेजा भो छिया छीया,
भनौ मन्का कुरा काँहाँ, कि ऊ जानोस् कि मैं जानूँ ।।

यता बर्षन्छ मेघ् धारा, उता चम् चम् विजूलीको,
म इन्दू के भए हुँला, कि ऊ जानोस् कि मैं जानू ।।६


(नोट- पं. बदरीनाथद्वारा सम्पादित पुस्तक पद्यसङ्ग्रह बाट भाषाका तत्कालिन मान्यतालाई यथावत राखी जस्ताको तस्तै टङ्कण गरी सारिएको)