भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यहाँ कुछ गड़बड़ है / ओरहान वेली

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:00, 30 जून 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ओरहान वेली |अनुवादक=अनिल जनविजय |...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या रोज़ाना यहाँ समुद्र इतना ही सुन्दर होता है?
आसमान दिखाई देता है ऐसा ही?
हमेशा इतनी ख़ूबसूरती होती है
यह सामान, ये खिड़कियाँ?

नहीं’
भगवान क़सम, नहीं
लगता है, यहाँ कुछ गड़बड़ है...

रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय