भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह आवाज़ कभी सुनी क्या तुमने / अलेक्सान्दर पूश्किन

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:42, 12 जनवरी 2008 का अवतरण (New page: {{KKAnooditRachna |रचनाकार=अलेक्सान्दर पूश्किन }} {{KKAnooditPustak |चित्र=-- |नाम=यह आवाज़ कभी स...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: अलेक्सान्दर पूश्किन  » यह आवाज़ कभी सुनी क्या तुमने
यह आवाज़ कभी सुनी क्या तुमने

140px

रचनाकार: अलेक्सान्दर पूश्किन
अनुवादक: अनिल जनविजय
प्रकाशक: --शिल्पायन प्रकाशन,10295, लेन नम्बर-1, वैस्ट गोरखपार्क, शाहदरा, दिल्ली-110032
वर्ष: --2008
मूल भाषा: रूसी
विषय: --
शैली: --
पृष्ठ संख्या: --92
ISBN: --81-87302-77-1
विविध: --(मूल रूसी भाषा से अनूदित)

इस पन्ने पर दी गयी रचनाओं को विश्व भर के योगदानकर्ताओं ने भिन्न-भिन्न स्रोतों का प्रयोग कर कविता कोश में संकलित किया है। ऊपर दी गयी प्रकाशक संबंधी जानकारी प्रिंटेड पुस्तक खरीदने में आपकी सहायता के लिये दी गयी है।