भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह उत्कट जिप्सी प्रेम / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:32, 23 नवम्बर 2008 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मरीना स्विताएवा |संग्रह=आएंगे दिन कविताओं के / म...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विरह का यह उत्कट जिप्सी प्रेमी
मिलने पर छिटक जाता है दूर
हाथों पर गिर आता है माथा
अंधकार निहारते सोचती हूँ मैं :

हमारी चिट्ठियों को खोदता
कोई भी नहीं पहुँच सका इस गहराई में,
किस हद तक हम रहे हैं आस्थाभंजक
यानी किस हद तक अपने-अपने प्रति आस्थावान !

रचनाकाल : अक्तूबर 1915

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह